اَللّٰهُ لَاۤ اِلٰهَ اِلَّا هُوَۚ-اَلْحَیُّ الْقَیُّوْمُ ﳛ لَا تَاْخُذُهٗ سِنَةٌ وَّ لَا نَوْمٌؕ-لَهٗ مَا فِی السَّمٰوٰتِ وَ مَا فِی الْاَرْضِؕ-مَنْ ذَا الَّذِیْ یَشْفَعُ عِنْدَهٗۤ اِلَّا بِاِذْنِهٖؕ-یَعْلَمُ مَا بَیْنَ اَیْدِیْهِمْ وَ مَا خَلْفَهُمْۚ-وَ لَا یُحِیْطُوْنَ بِشَیْءٍ مِّنْ عِلْمِهٖۤ اِلَّا بِمَا شَآءَۚ-وَسِعَ كُرْسِیُّهُ السَّمٰوٰتِ وَ الْاَرْضَۚ-وَ لَا یَـُٔوْدُهٗ حِفْظُهُمَاۚ-وَ هُوَ الْعَلِیُّ الْعَظِیْمُ

आयतुल कुर्सी हिंदी में

अल्लाहु ला इलाहा इल्लाहु (अल्लाह, उसके सिवा कोई माबूद नहीं )

हुअल हय्युल क़य्यूम (वह खुद ज़िंदा है और सभी को सँभालने वाला है )

ला ता ख़ुज़ूहु सिनतुन्व व ला नौम (न उसे ऊंघ आती है न नींद )

लहू मा फ़िस समावाति व मा फिल अर्द (आसमानो ज़मीन में जो कुछ भी है सब उसी का है )

मन ज़ललज़ी यसफओ इन्दहु इल्ला बेइज़्नीहि (कौन है जो उसके पास बिना उसकी इजाज़त के सिफारिश कर सके )

याअलमो मा बैना ऐइदीहीम व मा खल्फ़ाहुम् (वह जानता है सबकुछ जो उनके आगे है और जो कुछ उनके पीछे है)

व ला यूहीतूना बे शैइम मिन इलमिहि इल्ला बिमा शाअ ( और लोग उसके इल्म में से उतना ही हासिल कर सकते हैं जितना वो चाहे )

वसिअ कुर्र्सीउहुस समावाति वल अर्द ( उसकी कुर्सी आसमान और ज़मीन को अपनी वुसअत (फैलाव ) में लिए हुए है । )

व ला यऊदुहु हिफ्ज़ुहुमा (इनकी हिफाज़त उसको थका नहीं सकती )